Sports

Ranji Trophy 2018- माँ के चले जाने पर बेटे का तोफा, रणजी ट्रॉफी में मिलिंद कुमार का धमाल |

source: the indian express
Written by FGV Team
दिल्ली के इस लड़के ने सिक्किम जाकर कमल कर दिखाया हे , दिल्ली की और से प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेल चुके मिलिंद कुमार ने रणजी ट्रॉफी 2018-19 सत्र का बेहतरीन आगाज किया है. मिलिंद ने पहली बार इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में शामिल किए गए सिक्किम की ओर से खेलते हुए न सिर्फ दोहरा शतक जड़ा, बल्कि बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली.

क्या हे मिलिंद की कहानी: बता दें की 27 साल मिलिंद दिल्ली के रहने वाले हैं और अपने खेल का प्रदर्शन दिल्ली की टीम से भी दिखा चुके हैं | लेकिन इस बार इन्होने सिक्किम जाके जैसे इतिहास सा रच दिया | इसके बारे में बता दें ही हाल ही में कुछ माह पहले इनकी माँ का दिहांत हो गया था | उसके बाप इसकी इतनी बड़ी उपलभ्दी हासिल करना अपनी माँ के लिए एक तोहफा हे और इससे अच्छा तोहफा भला किसी माँ के लिए क्या हो सकता हे | इस उपलभ्दी पर परिवार में ख़ुशी की किरण जाग गयी हे , छोटे भाई आदित्य कुमार और पिता श्री सुमन कुमार की ख़ुशी का तो जैसे ठिकाना ही नहीं है |

source: The Hindu

आजतक के लेख के अनुसार 27 साल के मिलिंद ने रणजी ट्रॉफी प्लेट ग्रुप मुकाबले में मणिपुर के खिलाफ सिक्किम की पहली पारी के स्कोर 372 रनों में अकेले 261 रन बना डाले. यानी मिलिंद ने सिक्किम के इस स्कोर के 70 प्रतिशत रन खुद बनाए. कोलकाता के जाधवपुर यूनिवर्सिटी कैंपस मैदान पर खेले जा रहे इस मुकाबले में मिलिंद ने 331 गेंदों की पारी में 39 चौके और 3 छक्के लगाए.

टीम के कुल स्कोर में सर्वाधिक प्रतिशत रन बनाने का रिकॉर्ड विजय हजारे के नाम दर्ज है. हजारे ने दिसंबर 1943 में टीम के कुल स्कोर 387 में अकेले 309 रन बनाए थे. यानी टीम के कुल स्कोर के 80 प्रतिशत रन दिग्गज हजारे के बल्ले से आएमिलिंद कुमार की इस बड़ी पारी की बदौलत सिक्किम ने अपने पहले मैच में मणिपुर के खिलाफ पारी और 27 रनों से जीत दर्ज की. जवाब में मणिपुर की टीम अपनी पहली पारी में 28 ओवरों में 79 रनों पर आउट हो गई. गुजरात से आए ईश्वर चौधरी ने 37 रन देकर चार विकेट चटकाए, जबकि हिमाचल प्रदेश से खेल चुके बिपुल शर्मा को तीन विकेट मिलेफॉलोऑन पारी में मणिपुर की टीम तीसरे दिन 266 रनों पर सिमट गई. बिपुल ने इस पारी में 55 रन देकर चार विकेट निकाले, जबकि ईश्वर चौधरी ने 52 रन खर्च कर तीन सफलताएं अर्जित कीं.

 

Leave a Comment

Show Buttons
Hide Buttons