Jhakkas Technology

मोदी के “मेक इन इंडिया” को झुठला कर भारत बना दुनिया का सबसे बड़ा हथियार ख़रीदार देश

Written by FGV Team

2013 से 2017 के बीच दुनियाभर से आयात किए गए हथियारों में भारत की हिस्‍सेदारी 12 फीसदी रही| ग्लोबल थिंक टैंक स्टाकहॉम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार, साल 2008 से 2012 और 2013 से 2017 के बीच 24 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत की पड़ोसी देश पाकिस्‍तान और चीन के साथ बढ़ती दूरियों के चलते हथियारों की मांग बढ़ी है| लेकिन यहाँ देखने वाली बात यह है की देश के प्रधानमन्त्री का मेक इन इंडिया का दावा यहा साफ़ झूठा साबित होता है| जिसके अनुसार उन्होंने कहा था की हम भारत को आपने आप समृद्ध हुई शक्ति बनाना चाहते है जिसके लिए उन्होंने मेक इन इंडिया की मुहीम चलाई है| लेकिन एक रिपोर्ट के अनुसार, 2013-2017 के बीच भारत ने सबसे ज्‍यादा 62 फीसदी हथियार रूस से सप्‍लाई किए है. इसके बाद अमेरिका हथियार सप्‍लाई करने के मामले में दूसरे नंबर है. हथियार आयात करने के मामले में भारत के बाद सउदी अरब, मिस्र, यूएई, चीन, ऑस्ट्रेलिया, अल्जीरिया, इराक, और इंडोनेशिया जैसे देशों के नाम आते हैं, जिन्‍होंने दूसरे देशों से हथियार खरीदें हैं|

यह भी पढ़े : http://firegoesviral.in/kisanmarch/

वहीं दुनियाभर में हथियार सप्‍लाई करने के मामले में चीन पहले पांच देशों में शामिल है. इस मामले में अमेरिका पहले, रूस दूसरे, फ्रांस तीसरे और जर्मनी चौथे पायदान पर है. ये पांच देश दुनियाभर में 74 फीसदी हथियार सप्‍लाई करते हैं.

यह भी पढ़े : http://firegoesviral.in/asam/

वहीं सोमवार को रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि देश के रक्षा क्षेत्र के सार्वजनिक उपक्रमों और आयुध कारखानों में काफी संभावनाएं हैं, लेकिन इन उपक्रमों को पुनर्जीवित करने और उन्हें अधिक गतिशील बनाने की जरूरत है|

Leave a Comment

Show Buttons
Hide Buttons