Lifestyle Work

जानिए इस लड़की की कहानी कैसे बनी एक न्यूज़ इंटर्न से 48000 करोड़ की कंपनी की CEO

Written by vivek

एचसीएल की सीईओ रोशनी नादर मल्होत्रा फोर्ब्स की विश्व की 100 सबसे ताकतवर महिलाओं की लिस्ट में शामिल हैं। इस लिस्ट में रोशनी समेत 5 भारतीय महिलाओं का नाम है। रोशनी की रैकिंग 57th है। भारतीय महिलाओं में सबसे अच्छी रैंकिंग चंदा कोचर की है। जर्मनी की चांसलर एंगेला मर्केल इस लिस्ट में नंबर वन रैंक पर हैं। 48 हजार करोड़ रुपए की कंपनी की सीईओ रौशनी कभी एक न्यूज चैनल में काम करती थीं।


सिर्फ 28 साल की उम्र में बनी सीईओ….
– 36 वर्षीय रोशनी 2009 में सिर्फ 28 साल की उम्र में आईटी कंपनी एचसीएल की सीईओ बनीं। इसके अगले ही साल वे कॉरपोरेशन में एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर बन गईं।
– टेक्नोलॉजी, हेल्थकेयर और इन्फोसिस्टम के लिए काम करने वाली एचसीएल की वैल्यू करीब 48 हजार करोड़ रुपए है और इसके सारे स्ट्रैटजिक फैसले वही लेती हैं।
– वे शिव नादर फाउंडेशन की ट्रस्टी भी हैं, जिसका फोकस एजुकेशन पर रहता है और इस फाउंडेशन ने भारत के कुछ टॉप कॉलेज और स्कूल्स स्थापित किए हैं।- रोशनी ने शिखर मल्होत्रा से शादी की है और उनका एक बेटा भी है। उनके हसबैंड शिव नादर फाउंडेशन में उनकी हेल्प भी करते हैं।
एक विदेशी न्यूज चैनल में भी किया काम
– शिव नादर की एकलौती बेटी रोशनी नादर की स्कूली शिक्षा दिल्ली से हुई है। रोशनी ने इसके बाद मीडिया में अपनी ग्रैजुएशन नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी से की थी। इस दौरान वे सीएनबीसी चैनल में इन्टर्न भी रहीं।
– ग्रैजुएशन के बाद उन्होंने स्काई न्यूज के लंदन ऑफिस में काम भी किया। इसके बाद अपने पिता के कहने पर उन्होंने ये जॉब छोड़ दिया।
– इसके बाद इन्होंने केल्लोग ग्रैजुएट स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से सोशल इंटरप्राइज मैनेजमेंट एंड स्ट्रेटजी से एमबीए किया।
– अक्टूबर 2008 में रोशनी विदेश से इंडिया लौट आईं और अपने पिता के एचसीएल कॉर्पोरेशन से जुड़ गईं।

Leave a Comment

Show Buttons
Hide Buttons