Rapchik News Work

आज खुद बिकेगा फ्लिप्कार्ट, ये अमेरिकी कंपनी ख़रीद कर करेगी 60 लाख भारतीय किराना दुकानों से गठजोड़

Written by vivek

अमेरिकी रिटेल चेन वॉलमार्ट आज भारत में अपना दमदार कदम रखने जा रहा है। बुधवार को वह भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट का 70 प्रतिशत हिस्सा खरीदने का ऐलान करेगा। इसके लिए वॉलमार्ट के सीईओ डग मैकमिलन बेंगलुरु पहुंच चुके हैं। यह भारत में विलय और अधिग्रहण के बड़े समझौतों में एक होगा, जिसमें फ्लिपकार्ट का मूल्यांकन 20 अरब डॉलर (करीब 13 खरब रुपये) किया गया है|
इस डील का ऐलान बेंगलुरु स्थित फ्लिपकार्ट मुख्यालय में आयोजित टाउनहॉल मीटिंग में किया जाएगा। इस मीटिंग में मैकमिलन फ्लिपकार्ट के एंप्लॉयीज को भारत में अपनी कारोबारी रणनीति से वाकिफ कराएंगे। उसके बाद मैकमिलन दिल्ली रवाना हो जाएंगे। वहां वह शीर्ष सरकारी अधिकारियों से मुलाकात करके उन्हें वॉलमार्ट की योजना की जानकारी देंगे। वॉलमार्ट के सीईओ कंपनी के भारत में ‘पिछले दरवाजे से प्रवेश’ को लेकर पैदा हुए डर पर भी बात करेंगे। दरअसल, भारत सरकार ने देश में किसी विदेशी रिटेरलर कंपनी को स्टोर खोलने की इजाजत नहीं दी है।

यह भी पढ़े :http://firegoesviral.in/sonamkapoor/

इस कानून के मद्देनजर अतीत में ऑनलाइन मार्केटप्लेस मॉडल भी जांच के दायरे में रहा क्योंकि फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियों के बड़े हिस्से पर वैश्विक निवेशकों का मालिकाना हक है। कर्नाटक चुनाव की तैयारियां अंतिम चरण में पहुंच रही हैं। ऐसे में बीजेपी सरकार का तंत्र इस तरह का कोई सिग्नल नहीं देना चाहता है जिससे यह संदेश जाए कि इस डील को उसका समर्थन प्राप्त है। ऐसा हुआ तो व्यापारी वर्ग नाराज होगा जिसे बीजेपी का ताकतवर वोट बैंक माना जाता है।

यह भी पढ़े :http://firegoesviral.in/raajdeepsardesai/

वॉलमार्ट अपनी तरफ से यह संकेत देगा कि वह को-फाउंडर बिन्नी बंसल के नेतृत्व में फ्लिपकार्ट में इंडियन मैनेजमेंट को बरकरार रखेगा। वॉलमार्ट भारत के कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए जरूरी आधारभूत ढांचा निर्माण मंै निवेश भी करेगा। टाइम्स ऑफ इंडिया ने पहले ही खबर दी थी कि फ्लिपकार्ट के एक और सह-संस्थापक सचिन बंसल कंपनी में अपनी पूरी 5.5 प्रतिशत की हिस्सेदारी वॉलमार्ट को बेच देंगे। वहीं,फ्लिपकार्ट के शुरुआती निवेशकों में रहे टाइगर ग्लोबल और एस्सेल पार्टनर्स भी टेंसेंट के साथ अपनी छोटी-छोटी हिस्सदेरियां बरकरार रखेंगे। कहा जा रहा है कि सॉफ्ट बैंक और नैस्पर्स अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचेंगे।

सूत्रों ने बताया कि वॉलमार्ट की योजना भारत में कारोबार के विस्तार की है। इसके लिए वह 50 से 60 लाख किराना स्टोर्स से गठजोड़ करके उनके आधुनिकीकरण में मदद करेगा ताकि ये स्टोर्स वॉलमार्ट की संपूर्ण सप्लाइ चेन का हिस्सा बन जाएं। यह अमेरिकी कंपनी किराना स्टोर्स के साथ पार्टनरशिप के जरिए भारतीय ग्राहकों को खुद से जोड़ना चाहती है। वॉलमार्ट की भविष्य की योजनाओं से अवगत एक सूत्र ने कहा, ‘डिजिटल पेमेंट्स और अन्य क्षेत्रों की तकनीक पर भारी-भरकम निवेश होने

Leave a Comment

Show Buttons
Hide Buttons