Latest Uncategorized

आख़िर 7 साल बाद क्यों जागे अन्ना हजारे ?

Written by vivek

किसानों की अलग-अलग समस्याओं का निवारण, लोकपाल-लोकायुक्त कानून सहित चुनाव सुधारों की मांग को लेकर मशहूर समाजसेवी अन्ना हजारे शुक्रवार (23 मार्च) से छह साल बाद एक बार फिर अनशन शुरू कर रहे हैं। अपनी तमाम मांगों को लेकर उन्‍होंने मोदी को चेतावनी दी है। अन्‍ना आज इस महाआंदोलन की शुरुआत शुक्रवार को सुबह पहले राजघाट स्थित महात्मा गांधी की समाधि स्थल पर पहुंचे और वहां पर उन्होंने बापू का नमन किया। आधा घंटे से ज्यादा समय तक राजघाट में बिताने के बाद अन्ना यहां से रामलीला मैदान के लिए रवाना हो गए हैं। मशहूर सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना रामलीला मैदान में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। अन्ना हजारे केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करेंगे। इस बार भी वह ऐतिहासिक राम लीला मैदान से ही केंद्र सरकार के खिलाफ बिगुल फूकेंगे। बता दें कि इससे पहले वर्ष 2011 में भ्रष्टाचार की जांच के लिए लोकपाल के गठन की मांग को लेकर वह इसी मैदान में भूख हड़ताल पर बैठे थे। इस बार संभावित तौर पर वह नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली बीजेपी सरकार पर निशाना साधेंगे।

यह भी पढ़े : http://firegoesviral.in/phoneaddict/

उधर, रामलीला मैदान में बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने की संभावना के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं। रामलीला मैदान के चारों तरफ व अंदर भी चप्पे-चप्पे पर पैरा मिलिट्री व दिल्ली पुलिस तैनात है। हर तरह की संभावनाओं से निबटने के लिए दिल्ली पुलिस ने पूरी तैयारी की है। पुलिस का कहना है कि मेटल डिटेक्टर से गुजरने के बाद और मैन्युअल जांच-पड़ताल करने के बाद ही किसी को अंदर जाने दिया जाएगा।

इससे पहले अन्ना हजारे ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए गंभीर आरोप गया है। उन्होंने कहा कि, प्रदर्शन के लिए दिल्ली आ रहे किसानों की ट्रेनें रद्द की जा रही है। अन्ना ने अपने अनशन में पहुंचने वाले किसानों को लेकर दिल्ली पहुंचने वाली ट्रेनों को रद्द किए जाने से नाराजगी जताते हुए कहा कि क्या सरकार किसानों को हिंसा की ओर ले जाना चाह रही है? उन्होंने कहा कि मेरे लिए पुलिस बल तैनात किया गया है, जबकि मैंने कई बार पत्र लिख कर कहा था कि मुझे पुलिस सुरक्षा की जरूरत नहीं हैं, आपकी पुलिस हमें नहीं बचा सकती है। सरकार को ऐसा धूर्त रवैया नहीं अपनाना चाहिए।

यह भी पढ़े : http://firegoesviral.in/phoneaddict/

केंद्र सरकार के रवैये पर नाराजगी जताते हुए अन्ना ने कहा कि जो ट्रेनें प्रदर्शनकारियों को लेकर दिल्ली आ रही थीं उन्हें रद्द कर दिया गया, क्या आप उन्हें हिंसा की ओर ले जाना चाहते हैं। मेरे लिए पुलिस फोर्स भी तैनात कर दी गई। मैंने कई पत्र लिखे कि मुझे पुलिस सुरक्षा नहीं चाहिए। आपकी सुरक्षा मुझे नहीं बचाएगी। सरकार का यह रवैया ठीक नहीं है।अन्ना ने कहा कि जब लोगों को न्याय नहीं मिलता तब उनके पास आंदोलन करने का अधिकार है, अंग्रेज चले गए लेकिन इस देश में लोकतंत्र कहां है।

 

 

Leave a Comment

Show Buttons
Hide Buttons